फतेहपुर जिले के बिंदकी क्षेत्र में तलाक-ए-बिद्दत (तीन तलाक) रोधी विधेयक के संसद में पारित होने का जश्न मना रही एक मुस्लिम महिला को उसके शौहर ने कथित रूप से ‘तीन तलाक’ कह कर घर से बाहर निकाल दिया.

फतेहपुर जिले के बिंदकी क्षेत्र में तलाक-ए-बिद्दत (तीन तलाक) रोधी विधेयक के संसद में पारित होने का जश्न मना रही एक मुस्लिम महिला को उसके शौहर ने कथित रूप से ‘तीन तलाक’ कह कर घर से बाहर निकाल दिया.

उत्तर प्रदेश के बांदा से सटे फतेहपुर जिले के बिंदकी क्षेत्र में तलाक-ए-बिद्दत (तीन तलाक) रोधी विधेयक के संसद में पारित होने का जश्न मना रही एक मुस्लिम महिला को उसके शौहर ने कथित रूप से ‘तीन तलाक’ कह कर घर से बाहर निकाल दिया.

पुलिस सूत्रों ने इस सिलसिले में दर्ज रिपोर्ट के हवाले से बताया कि बिंदकी थाना क्षेत्र के जिगनी गांव में रहने वाली मुफीदा खातून को राज्यसभा में तीन तलाक विधेयक पास होने का जश्न मनाने पर उसके शौहर शम्सुद्दीन ने दो अगस्त को ‘तीन तलाक’ कह कर घर से निकाल दिया.

उन्होंने बताया कि मुकदमे में यह भी आरोप लगाया गया है कि शम्सुद्दीन ने मुफीदा के मायके पहुंच कर उसके मां-बाप के सामने तीन बार तलाक कहा. सूत्रों ने बताया कि पीड़िता की शिकायत पर शम्सुद्दीन के खिलाफ तीन अगस्त को मुकदमा दर्ज कर उसकी तलाश की जा रही है.